Content मोहल्ला

II अपनी भाषा , अपना मंच II

ज़िन्दगी

वो खड़ी है हर एक मोड़ पर, लेने नया एक इम्तिहाँ तत्पर हूँ मैं, प्रतिबद्ध भी करने को उसका सामना यूँ तो किसी के भाग का, ना छींन सकता ये जहाँ लेकिन मैं हूँ मुस्तैद, करना है हासिल जो लक़ीरों… Continue Reading →

ग़ज़ल

ख़ुदा ने तो सब्र आज़माया मेरा मगर तुमने क्यों दिल दुखाया मेरा छुपा कर हुआ मुझको ढ़हाने का काम सो मलबा भी अंदर गिराया मेरा हरेक शै थी अपनी जगह पे दुरुस्त हिसाब इश्क ने गड़बड़ाया मेरा ग़मों के थे… Continue Reading →

मिलो हम से

मिलो हम से किसी उगती हुई सुबह में या ढलती शाम में आकर चमकती रात के पिछले पहर किसी खामोश साअत में निगाहें सो रही हों जब समाअतें थक चुकी हों जब थके हारे हुए ख्वाबों की ताबीरें खिली हों… Continue Reading →

अच्छा आदमी

हमारे पैसे उन शराबों में गए जिनसे नशा नहीं हुआ मैं जब तुम्हारे शहर में आया बारिश का मौसम जा चुका था मेरी जेब से पैसे तब चुराए गए जब मैं तुम्हारे लिये तोहफा ख़रीदने जा रहा था मेरे अहबाब… Continue Reading →

दास्तान

दिन कट कट के गिरते हैं शाम के आँचल में सिर रख लम्हें सो जाते हैं रात एक नदी सी बहती है और हम दोनों अलग अलग किनारों से टूटे पुल पर चलते हैं आसमां का रंग लाल से काला… Continue Reading →

हम-तुम

कम से कम अब जिसे मिलेंगे हरे-भरे होंगे, ठीक हुआ जो अलग हो गए हम-तुम इस सावन। अगर बिछड़ते हम पतझड़ में कुछ भी न पाते। स्वप्न टूट सारे सूखे पत्तों से बिछ जाते। अपने हिस्से में आते, ये रूखे-रूखे… Continue Reading →

राग रामेश्वर

तुम उसका नाम पूछती हो कभी कभी रोज रोज और मैं चुप रहता हूं टाल देता हूं हमेशा हर रोज लेकिन मैं तुम्हें बताऊंगा कब? जब! जब सावन के बाद बागों में ढूंढ़ने पर भी नहीं मिलेंगे मोरपंख जब रंग… Continue Reading →

यादें

पल दो पल की यादों में जब वो मंजर समां रखा था क्या कहें हम वो आलम कितना दर्दनाक था रह रह कर तेरी वीरान सी वो गलियां मुझे मेरे आंगन से सूनी प्रतीत होती थी हम न बसेरा कर… Continue Reading →

नज़्म

उसने एक प्रेम किया और उस प्रेम में कई बार धोखे खाये वह तकिये में मुंह छुपा के रोया हर रात कभी अँधेरे भीड़ भरे कमरे में सिसकी की आवाज़ निकलने के बाद वह खाँसा बहुत तेज़-तेज़ कुछ बोला धीमी… Continue Reading →

« Older posts

© 2019 Content मोहल्ला — Powered by The Sociyo

Up ↑